महाराष्ट्र

ED द्वारा जब्त पैसा शिवसैनिकों के अयोध्या दौरे का है ,मर जाऊंगा, लेकिन शिवसेना का साथ नहीं छोडूंगा, शिवसेना नेता और राज्यसभा सांसद संजय राउत का बड़ा बयान

ED द्वारा जब्त पैसा शिवसैनिकों के अयोध्या दौरे का है ?

ED ने रविवार को राउत के आवास पर छापेमारी की थी, और उन्हें हिरासत में लिया. बाद में करीब 6 घंटे के पूछताछ के बाद ED ने PMLA के तहत आधी रात यानी करीब 12 बजे राउत की गिरफ्तार दिखाई. संजय राउत की गिरफ्तारी के बारे में भाई सुनील राउत ने  कहा कि फर्जी दस्तावेज के सहारे संजय राउत को पात्रा चॉल से जोड़ने की कोशिश की जा रही है. जो भी पैसा मिला वो शिवसैनिकों के अयोध्या दौरे का है.

अधिकारियों का कहना है कि जांच में सहयोग ना करने की वजह से राउत को गिरफ्तार किया गया. वहीं, ईडी दफ्तर पहुंचने के बाद संजय राउत ने मीडिया से बातचीत में कहा कि महाराष्ट्र को कमजोर करने की कोशिश हो रही है, लेकिन वह झुकेंगे नहीं. फिलहाल, संजय राउत को सोमवार दोपहर पीएमएलए कोर्ट में पेश किया जाएगा.

क्या है पात्रा चॉल जमीन घोटाला 

पात्रा चॉल भूमि घोटाले मामले में प्रवर्तन निदेशालय  ने शिवसेना  नेता संजय राउत  के घर पर घंटों तक चली छापेमारी और पूछताछ के बाद उन्हें हिरासत में ले लिया। हालांकि, उनका कहना है कि मैं दिवंगत बालासाहेब ठाकरे की सौगंध खाता हूं कि मेरा किसी घोटाले  से कोई संबंध नहीं है।

पात्रा चॉल मुंबई के गोरेगांव में बनी है। यह महाराष्ट्र हाउसिंग एंड एरिया डेवेलपमेंट अथॉरिटी की जमीन है। इसमें 1034 करोड़ का घोटाला होने का आरोप है। जिस जमीन पर ये फ्लैट रिडेवलप होने थे, उसका एरिया 47 एकड़ था। गुरु आशीष कंस्ट्रक्शन ने MHADA को धोखे में रख बिना फ्लैट बनाए ही ये जमीन 9 बिल्डरों को बेच दी। इससे उसे 902 करोड़ रुपए मिले। बाद में गलत तरीके से कमाए इन पैसों का एक हिस्सा अपने करीबी सहयोगियों को ट्रांसफर कर दिया

 

Related Articles

Close
×