टेक्नोलोजी

आपका बैंक खाता खाली कर देगी ये छोटी सी गलती ! @ ONLINE FRAUD

QR कोड फ्रॉड: ==अगर आप ऑनलाइन वेबसाइट पर कुछ बेच रहे हैं। ठग अपनी बातों में उलझाकर आपको एक QR कोड भेजेगा। इस कोड को UPI ऐप से स्कैन करने के लिए कहेगा। आपको बताया जाएगा कि इसको स्कैन करते ही आपके खाते में पैसे पहुंच जाएंगे। अगर आपने उसको स्कैन करके UPI पिन डाल दिया, समझिए आपके खाते में पैसे आने के बजाए चले जाएंगे। कई बार वही ठग आपको दोबारा संपर्क करेगा और बोलेगा की उसने गलती से दूसरा QR कोड भेज दिया था और वो पैसे लौटना चाहता है। पैसे लौटाने के नाम पर एक और QR कोड आएगा और अगर यहां भी आपने गलती कर दी, तो दोबारा आप पैसे गवां बैठेंगे। --- UPI फ्रॉड: बिना मोलभाव किए हुए ठग आपको पैसे ट्रांसफर करने पर राजी हो जाता है। आपको तुरंत एक SMS आएगा, जिसमें लिखा होगा की इतने पैसे आपके खाते में पहुंच गए। अप्रूव करने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें। ये लिंक आपके ‘फोन पे’, ‘गूगल पे’ या किसी अन्य UPI ऐप्लिकेशन का होगा। जैसे ही आप उस लिंक पर क्लिक करेंगे। आपके खाते में पैसे आने की बजाए चले जाएंगे। यहां आपको सावधानी से देखना है कि SMS में Debited लिखा है या Credited, SMS में पेमेंट लेने की रिक्वेस्ट आई है या पेमेंट करने की।Safety-डिजिटल सेफ्टी एक्सपर्ट ने बताया कि कोई भी लेनदेन करते समय अगर विक्टिम की तरफ से अनदेखी हुई है। जैसे- OTP या PIN शेयर करना या बिना पड़ताल के QR कोड को स्कैन करना। RBI के अनुसार, इस स्थिति में नुकसान की जिम्मेदारी ग्राहक की होगी। हालांकि अगर किसी ठगी के शिकार हो गए हैं, तो तुरंत बैंक को और पुलिस को शिकायत दें। इस तरह की ठगी IPC की धारा 420 और 468 के अंतर्गत संज्ञेय अपराध हैं। शिकायत दर्ज होने के बाद पुलिस ऐसे किसी भी प्लैटफॉर्म से ठग द्वारा इस्तेमाल की गई यूजर ID, ईमेल आईडी, IP एड्रेस व अन्य हासिल कर सकती है। तेजी से फैलते साइबर अपराधों पर नकेल कसने के लिए लोगों में ऑनलाइन सेफ्टी की जागरूकता फैलाने के साथ-साथ कानूनी प्रावधानों में भी रिव्यू और बदलाव की जरूरत है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
×