नई दिल्ली

बोगस गुजरात मॉडल से बड़े केजरीवाल मॉडल की असली सच्चाई, केजरीवाल सरकार की कौशल विकास गारंटी योजना के तहत साल 2021-22 में केवल दो छात्रों को मिला लोन और विज्ञापन पर खर्च हुए 19 करोड़ !

मोदी से कई गुना बड़ा झूट बोलते है अरविन्द केजरीवाल ?

2021-22 में केजरीवाल सरकार की कौशल विकास गारंटी योजना के तहत 2 छात्रों को ही लोन मिला।इस योजना में 10 लाख तक का लोन दिया जाता है।वहीं इस साल योजना के विज्ञापन पर 19 करोड़ रुपए खर्च किए गए।


दिल्ली सरकार ने 2015 में “दिल्ली उच्च शिक्षा और कौशल विकास गारंटी योजना” शुरू की थी. इस योजना का मकसद, दिल्ली से 10वीं या 12वीं करने वाले छात्रों को कॉलेज में पढ़ाई करने हेतु 10 लाख रुपए तक के लोन की सुविधा उपलब्ध कराना है.

वित्त वर्ष 2021-22 में इस योजना का लाभ पाने के लिए 89 छात्रों ने आवेदन किया, जिसमें से केवल दो छात्रों को ही लोन मिला. योजना के तहत 10 लाख तक लोन मिलता है, ऐसे में अगर मान लिया जाए कि इन छात्रों को अधिकतम 20 लाख तक का लोन मिला होगा, तब भी दिल्ली सरकार के द्वारा किया विज्ञापन का खर्च योजना से कई गुना अधिक है. दिल्ली सरकार ने इस साल इस योजना के विज्ञापन पर 19 करोड़ रुपए खर्च किए हैं. यह जानकारी न्यूज़लॉन्ड्री ने सूचना के अधिकार (आरटीआई) के जरिए हासिल की है.

जब मनीष सिसोदिया इस योजना की घोषणा कर रहे थे तब उनके साथ एक महिला अधिकारी भी मौजूद थीं. वे कहती हैं, ‘‘इस स्कीम में न किसी को लेटरल देना है, न मार्जिन मनी देना है, न ही थर्ड पार्टी गारंटी देनी है और न ही प्रोसेसिंग चार्ज देना है.’’

Related Articles

Close
×